भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Surgical Terms (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

शब्दकोश के परिचयात्मक पृष्ठों को देखने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें
Please click here to view the introductory pages of the dictionary

< previous1234Next >

Ehylocele

अंडधर कंचुक (tinica vaginalis) कोश में वसा लसीका (Chyle) या लसीका (lymph) का संग्रह। ऐसी अवस्था प्रायः फाइलेरिया रोग (filariasis) के साथ-साथ होती है। इस रोग की चिकित्सा पहले मूल रोग, जैसे फाइलेरिया रोग, की चिकित्सा करना है। इसके बाद अपस्फीत लसीका वाहिनियों के साथ या उनको छोड़कर कोश का बहिर्वर्तन तथा अवपूर्ण उच्छेदन करना होता है।

Ectoderm

बाह्य जनन स्तर
प्राणियों के भ्रूण में तीन प्राथमिक कोशिका स्तरों में से सबसे बाहर की परत, जिससे अधित्वक् और तंत्रिका ऊतक बनते हैं।

Ectopia Vesicae

अस्थानी विवृत मूत्राशय
ऐसी सथिति जिसमें मूत्राशय अपने स्थान पर न होकर उदर-भित्ति के बाहर स्थित होता है।

Egg

अंडा
यथार्थतः केवल मादा युग्मक या अण्डाणु।

Elastic Banadage

प्रत्यास्थ पट्टी
ऐसी पट्टी जो खींचे जाने पर मामूली सी बढ़ जाती है लेकिन छोड़ दिए जाने पर पुनः अपनी मूल अवस्था में आ जाती है।

Elephantiasis

श्लीपद
फाइलेरिया रोग की एक विशिष्ट अभिव्यक्ति (classical manifestation) जो टांगों तथा जनन अंगों (genitalia) को प्रभावित करती है। कभी-कभी अर्बुद, जैसे स्तन कार्सिनोमा, कक्षा लसीका पर्वो (axillary lymph nodes) तथा लसीका वाहिनियों में फैल जाते हैं जिससे ऊपरी शाखा अर्थात् बांह (upper limb) का श्लीपद हो जाता है। इसकी चिकित्सा, संरक्षी (conservative) है। स्थूल या मोटे ऊतकों को काटा (उच्छेदन) जाता है तथा कारण के दुर्दम होने परकोशिकाविषी औषधियों (cytotoxic drugs) का सेवन किया जाता है।

Elephantiasis

श्लीपद फीलपाँव
वह रोग, जिसमें बूचेरेरिया बैन्क्राफ्टाई नामक परजीवी सूत्रकृमि के कारण पाव में अत्यधिक सूजन के कारण वह मोटा हो जाता है।

Elisa

एलाइजा
प्रतिजनों या प्रतिरक्षियों के मापन की प्रक्रियाओं, शोषक मापन में से एक जिसमें विशेष इम्यूनोग्लोबुलिन से सहबद्ध एन्जाइम की मात्रा का मापन किया जाता है।

Embolectomy

अन्तः शल्य-निष्कासन
शस्त्रकर्म द्वारा रक्त वाहिका (blood vessel) से अन्तः शल्य (embolus) को बाहर निकाल देना।

Embolus

अन्तःशल्य
कोई पिण्ड जो रक्त क बहाव (रक्त प्रवाह) के लिये बाहरी वस्तु हो। यह रक्त की नली में कहीं फंस कर एकदम अवरोध या रूकावट पैदा कर देता है। आमतौर पर अन्तः शल्य रक्त का जमा हुआ भाग या थक्का (clot) होता है, जो हृदय के रूमेटिक कपाटिका रोग (rheumatic valvular disease) तथा अनुतीव्र जीवाणुज अन्तर्हृदशोथ (subacute bacterial endocarditis) से उत्पन्न होता है यह जंघा की पिंडलियों की पेशियों की शिराओं में उत्पन्न होता है और तब फुप्फुस धमनी में फंसकर फुप्फुस अन्तःशल्यता (pulmonary embolism) की अवस्था को उत्पन्न करता है जो घातक (fatal) सिद्ध होती है। धमनी अन्तः शल्यता (arterial embolism) के विशिषअट लक्षणों में तुरन्त दर्द का होना, शाखा (limb) में अपसंवेदन (paraesthesia), पीलापन का होना तथा परिसरीय नाड़ी (peripheral pulse) का विलुप्त होना।

Embryology

भ्रूण विज्ञन, भ्रौणिकी
जीव विज्ञान की वह शाखा जिसमें भ्रूण के बनने और उसके परिवर्धन की अवस्थाओं का अध्ययन होता है। इसमें युग्मज या अण्डे से लेकर स्कुटन या शिशु बनने तक की सभी अवस्थाओं का अध्ययन शामिल है।

Embryogenesis

भ्रूणोद्रभव
भ्रूण विकास की प्रक्रिया।

Empyema (Thoracis)

अन्तः पूयता
परिफुप्फुस गुहा यानी फेफड़ों क चारों तरफ की झिल्ली की गुहा में पूय (pus) का इकट्ठा हो जाना। आमतौर पर यह बीमारी आसपास की संरचनाओं, जैसे वक्ष की भित्ति, फेफड़ा, मधयच्छदापेशी (अर्थात् सीने और पेट को अलग करने वाली बीच की माँस पेशी) तथा मध्यस्थानिका (mediastinum) के संक्रमण (infection) के कारण होती है। पीप बनने की क्रिया के अनुसार इस बीमारी की तेजी को तीव्र (acute), अनुतीव्र (subacute), तथा चिरकारी तीन वर्गों में बांटा जा सकता है। चिकित्सा में संक्रमण पर नियंत्रण कियी जाता है तथा अक्रिय अवकाश (dead space) को दूर किया जाता है। (अक्रियावकाश से मतलब किसी ऐसे हिस्से से है जो काम में नहीं आता। वह मरी हुई चीज़ के बराबर है और उसे समाप्त कर देना चाहिये।

Empyema Tube

अन्तःपूयता नली
रबड़ की एक नली जिसका उपयोग अन्तःपूयता के रोगियों में पूय (pus) के निकास में किया जाता है।

Enamel

दंतवल्क, इनेमल
अधिचर्म से उत्पन्न दांत की उपर्रा कड़ी परत, जो-दंतीन (दंत धातु) को ढकती है। यह शरीर का सबसे कठोर पदार्थ है।

Encephalocele

मस्तिष्क हर्निया
दिमाग के पदार्थ का बाहर को निकल आना (हर्निया) जिससे उसके साथ उसकी झिल्लियां (तानिकाएं) भी बाहर आती हैं। खोपड़ी में पैदायशी छेद के होने अथवा बाद में छोट लगने के कारण छेद बन जाने पर छेद में से होकर दिमाग का हिस्सा खोपड़ी से बारह निकल आता है। आमतौर पर स्पंदनशील सूजन देखने को मिलती है, यानी निकले हुए हिस्से को छूने से उंगलियों में धड़कन सी महसूस होती है। इलाज में ऑपरेशन करके छेद को बन्द कर दिया जाता है।

Enacephalography

मस्तिष्कचित्रण
मस्तिष्क पृष्ठ (brain surface) को एक्स-रे के जरिये देखना।

Encephalomyelocele

मस्तिष्क-तानिका-हार्निया
तानिका (meaningies) तथा मस्तिष्क पृष्ठ का बहिः सरण। तानिका, मस्तिष्क पृष्ठ तथा सुषुम्ना (मेरुरज्जु-pinal cord) का हारन्ध्र (foramen magnum) तथा ग्रैव केशरुका (cervicalvertebra) के जरिये बहिः सरण (herniation)

Encholndroma

अन्तः उपास्थि अर्बुद
अस्थि द्रव्य में सुदम उपास्थि वृद्धि (benign cartilagenous growth) का होना।

Enchondromatosis

अन्तपास्थ्यबुर्दता
उपास्थि (cartilage) में अस्थि का विकास (development) हो जाना।
< previous1234Next >

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App